kolisamaj

kolisamaj

Breaking

BreakingBreakingBreakingBreakingBreakingBreakingBreakingBreakingBreakingBreaking

Thursday, August 6, 2020

क्षत्रिय कोली राजपूत: महाभारत के युग के उपरान्त

August 06, 2020 0
क्षत्रिय कोली राजपूत: महाभारत के युग के उपरान्त
  • महाभारत  युग के बाद क्रांतिकारी परिवर्तन।
महाभारत के युग के उपरान्त इस सम्पूर्ण क्षेत्र में क्रांतिकारी परिवर्तन हुआ। कोशल राज्य के अधीन अनेक छोटे-छोटे गणतंत्रात्मक राज्य असितत्व में आये, जिसमें कपिलवस्तु के क्षत्रिय शाक्यों और रामग्राम के क्षत्रिय कोलियों का राज्य वर्तमान महराजगंज जनपद की सीमाओं में भी विस्तृत था। क्षत्रिय शाक्य एवं क्षत्रिय कोलिय गणराज्य की राजधानी रामग्राम की पहचान की समस्या अब भी उलझी हुई है। डा. राम बली पांडेय ने रामग्राम को गोरखपुर के समीप स्थित रामगढ़ ताल से समीकृत करने का प्रयास किया है किन्तु आधुनिक शोधों ने इस समस्या को नि:सार बना दिया है। क्षत्रिय कोलिय का सम्बंध देवदह नामक नगर से भी था। बौद्धगंथों में भगवान गौतम बुद्ध की माता महामाया, मौसी महाप्रजापति गौतमी एवं पत्नी भद्रा कात्यायनी (यशोधरा) को देवदह नगर से ही सम्बनिधत बताया गया है। महराजगंज जनपद के अड्डा बाजार के समीप स्थित बनसिहा- कला में 88.8 एकड़ भूमि पर एक नगर, किले एवं स्तूप के अवशेष उपलब्ध हुए हैं। 1992 में डा. लाल चन्द्र सिंह के नेतृत्व में किये गये प्रारंभिक उत्खनन से यहां टीले के निचते स्तर से उत्तरी कृष्णवणीय मृदमाण्ड (एन.बी.पी.) पात्र- परम्परा के अवशेष उपलब्ध हुए हैं गोरखपुर विश्वविधालय के प्राचीन इतिहास विभाग के पूर्व अध्यक्ष डा. सी.डी.चटर्जी ने देवदह की पहचान बरसिहा कला से ही करने का आग्रह किया। महराजगंज में दिनांक 27-2-97 को आयोजित देवदह-रामग्राम महोत्सव गोष्ठी में डा. शिवाजी ने भी इसी स्थल को देवदह से समीकृत करने का प्रस्ताव रखा था। सिंहली गाथाओं में देवदह को लुम्बिनी समीप स्थित बताया गया है। ऐसा प्रतीत होता है कि देवदह नगर कपिलवस्तु एवं लुम्बिनी को मिलाने वाली रेखा में ही पूर्व की ओर स्थित रहा होगा। श्री विजय कुमार ने देवदह के जनपद के धैरहरा एंव त्रिलोकपुर में स्थित होने की संभावना व्यक्त की है। पालि-ग्रन्थों में देवदह के महाराज अंजन का विवरण प्राप्त होता है। जिनके दौहित्र गौतम बुद्ध थे। प्रो. दयानाथ त्रिपाठी की मान्यता है कि महाराज अंजन की गणभूमि ही कलांतर में विकृत होकर महाराजगंज एवं अंन्तत: महाराजगंज के रूप परिणित हुई। फारसी भाषा का गंज शब्द बाजार, अनाज की मंडी, भंडार अथवा खजाने के अर्थ में प्रयुक्त है जो महाराजा अंजन के खजाने अथवा प्रमुख विकय केन्द्र होने के कारण मुसिलम काल में गंज शब्द से जुड़ गया। जिसका अभिलेखीय प्रमाण भी उपलब्ध है। ज्ञातव्य हो कि शोडास के मथुरा पाषाण लेख में गंजवर नामक पदाधिकारी का स्पष्ट रूप से उल्लेख किया गया है। छठी शताब्दी ई0 में पूर्व में अन्य गणतंत्रों की भांति कोलिय गणतंत्र भी एक सुनिश्चित भोगौलिक इकाई के रूप में स्थित था। यहां का शासन कतिपय कुलीन नागरिकों के निर्णयानुसार संचालित होता था। तत्कालीन गणतंत्रों की शासन प्रणाली एवं प्रक्रिया से स्पष्टत: प्रमाणित होता है कि जनतंत्र बुद्ध अत्यन्त लोकप्रिय थे। इसका प्रमाण बौद्ध ग्रंथों में वर्णित शक्यो एवं कोलियों के बीच रोहिणी नदी के जल के बटवारें को लेकर उत्पन्न विवाद को सुलझाने में महात्मा बुद्ध की सक्रिय एवं प्रभावी भूमिका में दर्शनीय है। इस घटना से यह भी प्रमाणित हो जाता है कि इस क्षेत्र के निवासी अति प्राचीन काल से ही कृषि कर्म के प्रति जागरूक थे। कुशीनगर के बुद्ध के परिनिर्वाण के उपरांत उनके पवित्र अवशेष का एक भाग प्राप्त करने के उद्देश्य से जनपद के कोलियों का दूत भी कुशीनगर पहुंचा था। कोलियों ने भगवान बुद्ध क पवित्र अवशेषों के ऊपर रामग्राम में एक स्तूप निर्मित किया था, जिसका उल्लेख फाहियान एवं हवेनसांग ने अपने विवरणों में किया है। निरायवली-सूत्र नामक ग्रंथ से ज्ञात होता है कि जब कोशल नरेश अजातशत्रु ने वैशाली के लिचिछवियों पर आक्रमण किया था, उस समय लिचिछवि गणप्रमुख चेटक ने अजातशत्रु के विरूद्व युद्ध करने के लिए अट्ठारह गणराज्यों का आहवान किया था। इस संघ में कोलिय गणराज्य भी सम्मिलित था। छठी षताब्दी ई. पूर्व के उपरांत राजनीतिक एकीकरण की जो प्रक्रिया प्रारम्भ हुई उसकी चरम परिणति अशोक द्वारा कलिंग युद्ध के अनंतर शास्त्र का सदा के लिए तिलांजलि द्वारा हुआ। महराजगंज जनपद का यह संपूर्ण क्षेत्र नंदों एवं मौर्य सम्राटों के अधीन रहा। फाहियान एंव हवेनसांग ने सम्राट अशोक के रामग्राम आने एवं उसके द्वारा रामग्राम स्तूप की धातुओं को निकालने के प्रयास का उल्लेख किया है। अश्वघोष के द्वारा लिखित बुद्ध चरित (28/66) में वर्णित है कि समीप के कुण्ड में निवास करने वाले एवं स्तूप की रक्षा करने की नाग की प्रार्थना से द्रवित होकर उसने अपने संकल्प की परित्याग कर दिया था।
Source : महाराज गंज का इतिहास

Monday, June 1, 2020

हमारे प्राचीन राजा मान्धाता की कथा: भगवान श्री राम के पूर्वज

June 01, 2020 0
हमारे प्राचीन राजा मान्धाता की कथा: भगवान श्री राम के पूर्वज

हमारे प्राचीन राजा मान्धाता की कथा: कोली समाज की उत्पत्ति

हमारे प्राचीन राजा मान्धाता(Mandhata) की कथा, मोहनजो दारो के पुरातात्विक निष्कर्ष 5000-3000 ईसा पूर्व के हैं। वहां के पत्थर के शिलालेखों में उनके राज्यों में महान कोली राजाओं और प्रशासन की उनकी पंचायती पद्धति का वर्णन है। महान राजा मान्धाता के संदर्भ में कई बार और उनके जीवन के विभिन्न पहलुओं, वीरता, और यज्ञ के कई प्रकाशनों में वर्णित हैं।


इक्ष्वाकु सूर्यवंश:

राजा मान्धाता के बारे मे अनुमान है कि वे लगभग दस हजार साल पहले जीवित थे। उसके बाद श्री राम, श्री कृष्ण और भगवान बुद्ध जैसी महान आत्माओं का जन्म हुआ। फिर भी राजा मान्धाता की उपलब्धियों की महानता ऐसी थी कि एक सांसारिक भाषाप्रकार इस दिन सार्वभौमिक उपयोग में आया, जब दूसरों से यह पूछने की तुलना की गई  की क्या वह मान्धाता(Mandhata) की तरह महान थे? ’मंधाता की तुलना सूर्यवंश में सबसे चमकीले तारे के रूप में की गई है और उनका जन्म हुआ था ब्रह्मा की 15 वीं पीढ़ी में। महान मनु के बाद 10 वीं पीढ़ी में  मान्धाता(Mandhata) हुये थे। मन्धाता के बाद श्री राम का जन्म 25 वीं पीढ़ी के रूप में कहा जाता है। इक्ष्वाकु सूर्यवंश कोली राजा का एक और महान राजा था और इसलिए मान्धाता(Mandhata) और श्री राम को  इक्ष्वाकु सूर्यवंश का कहा जाता था। यह राजवंश बाद में नौ प्रमुख उप समूहों में विभाजित हो गया, सभी अपनी जड़ों को क्षत्रिय जाति का दावा करते थे। वे हैं: मल्ल, जनक, विदेहि, कोलय, मोर्य, लिच्छवी, जनात्रि, वाजजी, और शाक्य। '


श्रीराम की पीढ़ी में  मान्धाता:

1. ब्रह्मा जी से मरीचि हुए,
2. मरीचि के पुत्र कश्यप हुए,
3.कश्यप के पुत्र विवस्वान हुए,
4. विवस्वान के वैवस्वत मनु हुए.वैवस्वत मनु के समय जल प्रलय हुआ था,
5. वैवस्वतमनु के दस पुत्रों में से एक का नाम इक्ष्वाकु था, इक्ष्वाकु ने अयोध्या को अपनी राजधानी बनाया और                                                                    इस प्रकार इक्ष्वाकु कुलकी स्थापना की |
6. इक्ष्वाकु के पुत्र कुक्षि हुए,
7. कुक्षि के पुत्र का नाम विकुक्षि था,
8. विकुक्षि के पुत्र बाण हुए,
9.  बाण के पुत्र अनरण्य हुए,
10. अनरण्य से पृथु हुए,
11. पृथु से त्रिशंकु का जन्म हुआ,
12. त्रिशंकु के पुत्र धुंधुमार हुए,
13. धुन्धुमार के पुत्र का नाम युवनाश्व था,
14. युवनाश्व के पुत्र मान्धाता हुए,
15. मान्धाता से सुसन्धि का जन्म हुआ,
16. सुसन्धि के दो पुत्र हुए- ध्रुवसन्धि एवं प्रसेनजित,
17. ध्रुवसन्धि के पुत्र भरत हुए,
18. भरत के पुत्र असित हुए,
19. असित के पुत्र सगर हुए,
20. सगर के पुत्र का नाम असमंज था,
21. असमंज के पुत्र अंशुमान हुए,
22. अंशुमान के पुत्र दिलीप हुए,
23. दिलीप के पुत्र भगीरथ हुए, भागीरथ ने ही गंगा को पृथ्वी पर उतारा था.भागीरथ के पुत्र ककुत्स्थ थे |
24. ककुत्स्थ के पुत्र रघु हुए, रघु के अत्यंत तेजस्वी और पराक्रमी नरेश होने के कारण उनके बाद इस वंश का नाम रघुवंश हो गया, तब से श्री राम के कुल को रघु कुल भी कहा जाता है |
25. रघु के पुत्र प्रवृद्ध हुए,
26. प्रवृद्ध के पुत्र शंखण थे,
27. शंखण के पुत्र सुदर्शन हुए,
28. सुदर्शन के पुत्र का नाम अग्निवर्ण था,
29. अग्निवर्ण के पुत्र शीघ्रग हुए,
30. शीघ्रग के पुत्र मरु हुए,
31. मरु के पुत्र प्रशुश्रुक थे,
32. प्रशुश्रुक के पुत्र अम्बरीष हुए,
33. अम्बरीष के पुत्र का नाम नहुष था,
34. नहुष के पुत्र ययाति हुए,
35. ययाति के पुत्र नाभाग हुए,
36. नाभाग के पुत्र का नाम अज था,
37. अज के पुत्र दशरथ हुए,
38. दशरथ के चार पुत्र राम, भरत, लक्ष्मण तथा शत्रुघ्न हुए |

इस प्रकार ब्रह्मा की उन्चालिसवी (39) पीढ़ी में श्रीराम का जन्म हुआ  मान्धाता की 25 वीं पीढ़ी थी|


मान्धाता के जन्म की बहुत रसप्रद कथा:

राजा युवनाशवर, मान्धाता(Mandhata) के पिता की सौ पत्नियां थीं लेकिन उनके लिए कोई पुरुष संतान पैदा नहीं हुई थी। उन्होंने कई ऋषियों से सलाह ली और आखिर में भार्गव ऋषि आए जो उनके लिए पुत्र प्राप्ति के लिए यज्ञ करने को तैयार हो गए। यज्ञ के अंत में, अगली सुबह राजा को अपनी रानी के पास ले जाने के लिए मंत्र-आरोपित-जल का एक पात्र रखा गया। रात के समय, राजा प्यासा हो गया और आश्रम में पानी की तलाश में चला गया। उसने बर्तन देखा और इस गुणकारी पानी से अपनी प्यास बुझाई। नियत समय में, राजा के पेट को काटकर एक पुत्र का उद्धार किया गया। भगवान इंद्र ने इस अनोखी घटना के बारे में सुना और शिशु को देखने आए। यह सवाल करने के लिए कि बच्चे को कौन खिलाएगा और उसकी रक्षा करेगा, इंद्र ने अपना अंगूठा बच्चे के मुंह में डाल दिया और कहा कि 'मा थश्यती'। इस प्रकार बच्चे का नाम 'मंधाता' रखा गया और बाद में उसने भगवान इंद्र से युद्ध की कला सीखी और अपना अजेय धनुष प्राप्त कर लिया।


मान्धाता का पराक्रम:

राजा मान्धाता(Mandhata) ने अपनी बेहतर ताकत, ज्ञान और अच्छी तरह से सुसज्जित सेना के साथ विशाल क्षेत्रों और कई आसपास के राज्यों पर विजय प्राप्त की। वह पराजित राजाओं को पुनर्स्थापित करेगा। ऐसे राजा को वार्षिक कर का भुगतान करने के लिए सहमत किया जाएगा। अनुपालन और सुशासन सुनिश्चित करने के लिए प्रत्येक राज में एक राजदूत तैनात किया जाएगा। ऐसे राजा को भी मान्धाता(Mandhata) की सुरक्षा प्राप्त थी। इस वादे को पूरा करने के लिए उन्हें एक बार अपने ही देवता इंद्र से लड़ना पड़ा, जिन्होंने हारने पर मंधाता को एक राक्षस राजा लवकुशूर से लड़ने की चुनौती दी। जल्द ही इस दानव राजा के साथ लड़ाई के लिए एक अवसर पैदा हुआ।

हमेशा विजय रहनेवाला राजा मान्धाता(Mandhata) के लिए, यह मुठभेड़ उनके जीवन का एक विलक्षण अंत साबित हुई। राजा और उसकी सेना ने लवणासुर के राज्य में अधिकार किया, लेकिन कोई प्रतिरोध नहीं हुआ। शाम ढल रही थी। राजा मंधाता ने रात के लिए शिविर लगाने का फैसला किया, अगले दिन लवणासुर को पकड़ने का भरोसा दिया। लावनासुर के जासूस ने हालांकि रात में शिविर में घुसपैठ की और सो रहे राजा को मार डाला।


पुरातात्विक निष्कर्ष:

पुरातात्विक निष्कर्ष, जब एक साथ पाइक किया जाता है, तो मान्धाता(Mandhata) को इक्ष्वाकु - सूर्य वंश और उनके वंशज 'सूर्य वंश कोली किंग्स' के रूप में जाना जाता है। वे बहादुर, शानदार और न्यायप्रिय शासकों के रूप में जाने जाते थे। बौद्ध ग्रंथों में संदेह से परे कई संदर्भ हैं। मान्धाता(Mandhata) के वंशजों ने एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई और हमारे प्राचीन वेदों, महाकाव्यों और अन्य अवशेषों ने युद्ध और राज्य प्रशासन की कला में उनके महत्वपूर्ण योगदान का उल्लेख किया। वे हमारी प्राचीन संस्कृत पुस्तकों में कुल्ल, कुली, कोली सर्प, कोलिक, कौल आदि के रूप में संदर्भित हैं।

 

 

भारत में कोली-कोरी सम्राट की सूची

June 01, 2020 0
भारत में कोली-कोरी सम्राट की सूची

ABCD

 

राजा का नामसाम्राज्यसाम्राज्य

श्रीमंत राजा यशवंत राव विक्रम शाह

(Srimant King Yaswant Rao Vikram Shah)

 

Jabhar

ठाकुर केसरी सिंहजी

Thakur Kesri Singh Ji

कटोसन

Katosan

ठाकुर जालिम सिंहजी

Thakur Jalim Singh Ji

अंबलियार

Ambliyaar

Photo1

ठाकुर पथेसिंह

Thakur Patheh Singh

घोडसर

Ghodasar

Photo1

ठाकुर सूरज सिंह

Thakur Suraj Singh

 सत्यमपा

Sathampa

Photo1

ठाकुर मोहन सिंह

Thakur Mohan Singh

खरस

Kharas

Photo1

ठाकुर शिव सिंह

Thakur Shiv Singh

धामा

Dhama

Photo1

ठाकुर मान सिंह

Thakur Maan Singh

एलोल

Elol

Photo1

कोली राज्यों का विस्तार : बुंदेलखंड

June 01, 2020 0
कोली राज्यों का विस्तार : बुंदेलखंड

 

बुंदेलखंड (16 वीं शताब्दी तक (चंदेलों के शासनकाल में) को जाजक भक्ति या जेजाका भक्ति के रूप में जाना जाता है) मध्य भारत का एक भौगोलिक क्षेत्र है। यह क्षेत्र अब उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश राज्यों के बीच बंटा हुआ है, जिसका बड़ा हिस्सा उत्तर में स्थित है।

प्रमुख शहर झांसी, दतिया, ललितपुर, सागर, दमोह, ओराई, पन्ना, महोबा, बांदा नरसिंहपुर और छतरपुर हैं। हालांकि, ग्वालियर, जबलपुर और यहां तक कि भोपाल शहर भी बुंदेलखंड के सांस्कृतिक प्रभाव के अधीन हैं, विशेष रूप से स्थानीय रूप से। हालांकि, बुंदेलखंड का सबसे प्रसिद्ध स्थान खजुराहो है, जिसमें 10 वीं शताब्दी के कई मंदिर हैं, जो उत्तम जीवन और कामुकता के लिए समर्पित हैं। पन्ना की खदानें शानदार हीरों के लिए प्रसिद्ध रही हैं; और आखिरी से खोदा गया एक बहुत बड़ा कालिंजर के किले में रखा गया था।

 

कोली-कोरी समाज की उपजातियाँ-Subcastes of Koli-Kori Samaj

June 01, 2020 0
कोली-कोरी समाज की उपजातियाँ-Subcastes of Koli-Kori Samaj
  • शाक्य - Shakya
  • महावर - Mahawar
  • मेहरा - Mehra
  • तांती - Taanti
  • पटवा पान -Patwa Paan
  • कश्यप - Kashyap
  • कुथार - Kuthar
  • ताडपाड़ा - Tadpada
  • लेहगीर - Lehgir
  • धीमान - Dheeman
  • बनोगा - Banogha
  • एयरवर - Airwaar
  • मुदिराज - Mudiraaj
  • दाबी - Daabhi
  • दामि चौहान - Daami Chauhan

भारत के विभिन्न राज्यों में कोली/कोरी(Koli in various states of India)

June 01, 2020 0
भारत के विभिन्न राज्यों में कोली/कोरी(Koli in various states of India)

उत्तरप्रदेश:

उत्तरप्रदेश में सोसाइटी को बारह एंडोगामस उपसमूहों में बांटा गया है, जैसे कि अहरवार, बनबटा, धीमान, हल्दीहा, जैसवार, कबीर पंथी, कैथिया, कमलवंशी, कमरिया, महाुरे, साक्यार और शंखवार और ये उपसमूह एक दूसरे के संबंध में समान स्थिति के हैं। इनमें से प्रत्येक उपसमूह को एक्जोटामस गोत्र में विभाजित किया गया है जैसे कि चाचोंडिया, काशमोर, खिरवार, कोठारिया, आदि।

मध्यप्रदेश:

मध्यप्रदेश में, कोरी इंदौर, खरगोन, खंडवा, धार और उज्जन जिलों में वितरित किए जाते हैं। महाराष्ट्र में, कोरी मानते हैं कि वे महर्षि कश्यप के वंशज हैं। एक अन्य संस्करण के अनुसार, कोरी के पूर्वज एक ब्राह्मण लड़की के साथ कबीर के मिलन से पैदा हुए थे। ऐसा माना जाता है कि वे मध्य प्रदेश के रीवा जिले से अपने वर्तमान निवास स्थान पर चले गए थे। भंडारा, नागपुर और अमरावत जिले में समाज का वितरण।

उड़ीसा :

उड़ीसा में, कोरी कोली, कोली और कुली मल्हार भी कहा जाता है और पूरे राज्य में वितरित किया जाता है लेकिन मयूरभंज जिले में उनकी प्रमुख एकाग्रता है। इन्हें अलग-अलग गैर-पदानुक्रमित गोत्र में विभाजित किया गया है, जैसे बाघा, चौला, बेला, सदा, गंगालवा, नागेश्वर, आदि पात्रा, कौर और बेहरा उनके उपनाम हैं।

राजस्थान:

राजस्थान में, कोली एक पारंपरिक बुनाई समुदाय है जो अब अपने जीवन यापन के लिए कृषि और अन्य नौकरियों में लगे हुए हैं। उन्हें राजस्थान के विभिन्न हिस्सों में कोरी, कोरिया और बंकर के रूप में भी जाना जाता है और कोरिया कोरी की ध्वन्यात्मक भिन्नता है। वे सवाईमाधोपुर, जयपुर, अजमेर, कोटा, बूंदी, भरतपुर, करोली, दौसा, टोंक और अलवर जिलों में केंद्रित हैं। शहरी क्षेत्रों से काफी संख्या में कोली, कोरी को लौटाया जाता है। राजस्थान में कोली को अलग-अलग उपसमूहों में विभाजित किया जाता है जैसे कि महावर, सकवार, कबीरपंथी, राठड़ा, इत्यादि, हालांकि, महावर, सकवार और अन्य लोग अंतर-विवाह कर सकते हैं। इन उपसमूहों को आगे चलकर कथनलिया, नाहवान, कजोट्य, राजोरी, कटारिया, मोरवाल, गोदरिया, देवतवाल, नेपालपुरिया, भारवाल आदि जैसे कई अतिरंजित कुलों में विभाजित किया गया है।

दिल्ली:

दिल्ली में, कोली राजस्थान और उत्तर प्रदेश के प्रवासी हैं। उन्हें किल्ली, बंकर, तंतूबाई, कोरी, कापरे या कापरडिया और महार किली के नाम से भी जाना जाता है। वे गौशाला, नंदनागरी, दक्षिणपुर, सावन पार्क, कोटला, मुबारकपुर, मदनगिरी, आश्रम, पहाड़गंज और सदर में केंद्रित हैं।

समाज की भाषा और बोलियों:

समाज भारत-आर्य भाषा, हिंदी, मालवी, निमाड़ी स्थानीय भाषाओं की विभिन्न बोलियों में बोलता है और देवनागरी लिपि का उपयोग करता है। अंतर-समूह संचार के लिए भी, वे हिंदी और स्थानीय भाषाओं का उपयोग करते हैं। कोली ने अपने बच्चों को स्कूलों और कॉलेजों में भेजना शुरू कर दिया है और शिक्षा के क्षेत्र में अच्छी प्रगति की है।

राघोजी भांगरे (8 नवंबर 1805 - 2 मई 1848)

June 01, 2020 0
राघोजी भांगरे (8 नवंबर 1805 - 2 मई 1848)

 नाईक राघोजी राव भांगरे की प्रतिमा, अहमदनगर,

महाराष्ट्रविकल्पीय नाम  :वंडकरी
जन्म - तिथि                  :8 नवंबर 1805
जन्म - स्थान                 :देवगांव, अकोले, मराठा साम्राज्य
मृत्यु - तिथि                  :2 मई 1848
मृत्यु - स्थान                 :अहमदनगर, ब्रिटिश भारत
आंदोलन                     : भारतीय स्वतन्त्रता आन्दोलन
धर्म                             :हिन्दू कोली

राघोजी भांगरे (8 नवंबर 1805 - 2 मई 1848) भारत के एक महान स्वतंत्रता सेनानी क्रांतिकारी थे। इनका जन्म ही एक क्रांतिकारी कोली परिवार मे हुआ था। राघोजी भांगरे के पिताजी रामजी भांगरे जो मराठा साम्राज्य मे सुबेदार थे ने अंग्रेजों के छक्के छुड़ा दिए थे और उनको अण्डमान और निकोबार द्वीपसमूह पर सेल्यूलर जेल मे काले पानी की सजा सुनाई गई थी साथ ही राघोजी भांगरे के दादाजी के सगे भाई वालोजी भांगरे भी क्रांतिकारी थे जिन्होने पेशवा के खिलाफ विद्रोह किया था और तोप से उड़ा दिया गया इतना ही नही राघोजी भांगरे के भाई वापूजी भांगरे ने भी अंग्रेजों के खिलाफ हथियार उठाए थे और शहिदी प्रात की।
 
1818 मे जब मराठा साम्राज्य ब्रिटिश सरकार द्वारा हराया जा चुका था और ब्रिटिश राज स्थापित किया जा रहा था तो ब्रिटिश सरकार को महाराष्ट्र मे जगह जगह विद्रोहों का सामना करना पड़ा जिनमे से एक तरफ विद्रोह राघोजी भांगरे के पिताजी रामजी भांगरे के ने दहकाया हुआ था। रामजी भांगरे की मृत्यु के पश्चात स्वतंत्रता की चिनगारी को राघोजी भांगरे ने व्यापक रुप दे दिया।

क्षत्रिय कोली राजपूत: महाभारत के युग के उपरान्त

महाभारत  युग के बाद क्रांतिकारी परिवर्तन। महाभारत के युग के उपरान्त इस सम्पूर्ण क्षेत्र में क्रांतिकारी परिवर्तन हुआ। कोशल राज्य के अधीन अने...